मुंबई BMW हिट एंड रन केस (Mumbai BMW hit and Run Case, Mihir Shah)

मुंबई की सड़कों पर एक दुखद घटना ने सभी को झकझोर कर रख दिया है। रविवार को मुंबई में हुए हिट एंड रन केस ने न केवल एक मासूम की जान ले ली, बल्कि कई सवाल खड़े कर दिए हैं। इस केस में मुख्य आरोपी शिवसेना नेता राजेश शाह के पुत्र, मिहिर शाह, की गिरफ्तारी हुई है। आइए, इस मामले के प्रमुख बिंदुओं पर विस्तार से चर्चा करते हैं।

Mumbai hit and Run Case

मुंबई हिट एंड रन केस घटना का विवरण

मुंबई हिट एंड रन केस की घटना रविवार की तड़के हुई जब मिहिर शाह की BMW कार ने एक टू-वीलर को पीछे से टक्कर मारी। इस हादसे में स्कूटर पर सवार महिला, कावेरी नखवा, की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई। दुर्घटना के बाद मिहिर शाह ने गाड़ी को लगभग 1.5 किलोमीटर तक चलाया, जिससे महिला का शरीर कार के नीचे फंसकर घसीटा गया। इस भयावह हादसे के बाद मिहिर शाह मौके से फरार हो गए।

मुंबई हिट एंड रन केस हादसे का समय और स्थान

यह हादसा रविवार की तड़के हुआ जब मिहिर शाह अपने दोस्तों के साथ जूहू के टापस बार से लौट रहे थे। हादसे का स्थान मुंबई का हाजी अली इलाका था, जहां BMW ने स्कूटर को टक्कर मारी। हादसे के बाद मिहिर ने अपनी कार को भगाया और महिला को घसीटते हुए लगभग 1.5 किलोमीटर तक ले गए।

मुंबई हिट एंड रन केस टक्कर और इसके परिणाम

टक्कर इतनी तेज थी कि स्कूटर पर सवार महिला, कावेरी नखवा, कार के नीचे फंस गई और मौके पर ही उनकी मौत हो गई। टक्कर के बाद भी मिहिर शाह ने अपनी कार नहीं रोकी और गाड़ी को भगाते रहे। इसके परिणामस्वरूप महिला का शरीर काफी दूर तक घसीटता चला गया, जिससे उसकी मौत हो गई।

मुंबई हिट एंड रन केस मिहिर का फरार होना

हादसे के बाद मिहिर शाह ने डर के कारण मौके से भागने का निर्णय लिया। उन्होंने अपनी पहचान छिपाने के लिए अपनी दाढ़ी मुंडवा ली और अपनी गर्लफ्रेंड के घर गोरेगांव चले गए। मिहिर ने पुलिस से बचने के लिए यह कदम उठाया, लेकिन अंततः पुलिस ने उन्हें विरार के एक रिसॉर्ट से गिरफ्तार कर लिया। इस घटना ने न केवल मुंबई में बल्कि पूरे देश में सनसनी फैला दी है। पुलिस द्वारा की गई त्वरित कार्रवाई और मिहिर की गिरफ्तारी ने यह सुनिश्चित किया कि दोषी को न्याय के कटघरे में खड़ा किया जाएगा।

मुंबई हिट एंड रन केस मिहिर शाह की गिरफ्तारी

मुंबई हिट एंड रन केस में शिवसेना नेता राजेश शाह के पुत्र मिहिर शाह की गिरफ्तारी एक जटिल और चुनौतीपूर्ण प्रक्रिया थी। हादसे के बाद मिहिर ने अपनी पहचान छिपाने के लिए अपनी दाढ़ी मुंडवा ली थी। पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए घटना स्थल के आसपास के CCTV फुटेज खंगाले और गवाहों से पूछताछ की, जिससे मिहिर की पहचान और उसकी कार की जानकारी मिली। मिहिर ने हादसे के बाद अपने दोस्तों को घर छोड़ा और अपनी गर्लफ्रेंड के घर गोरेगांव में शरण ली, लेकिन बाद में विरार के एक रिसॉर्ट में छिप गए। पुलिस ने कई जगह छापेमारी की और अंततः विरार के रिसॉर्ट में मिहिर को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में मिहिर ने स्वीकार किया कि वह BMW चला रहा था और हादसे के बाद वह डर के कारण भाग गया था। पुलिस ने मिहिर के परिवार के सदस्यों और दोस्तों से भी पूछताछ की, जिसमें उनकी मां मीना, बहनें पूजा और किंजल, और दोस्त अवदीप शामिल थे। मिहिर शाह के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है और उन्हें अदालत में पेश किया जाएगा, जहां पुलिस उनकी हिरासत की मांग करेगी। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने हिट एंड रन मामलों में कड़ी कार्रवाई की घोषणा की है। इस मामले में, बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) ने जूहू स्थित टापस बार के अवैध निर्माण को ध्वस्त कर दिया, जहां मिहिर ने घटना से कुछ घंटे पहले शराब पी थी। सड़क हादसों का मुद्दा भारत में गंभीर है, और इस घटना ने समाज और न्याय प्रणाली के सामने कई सवाल खड़े कर दिए हैं।

मुंबई हिट एंड रन केस पुलिस का बयान

मुंबई हिट एंड रन केस में पुलिस ने कई महत्वपूर्ण जानकारियां साझा कीं, जो इस घटना के विभिन्न पहलुओं को उजागर करती हैं। पुलिस ने बताया कि मिहिर शाह ने शनिवार रात जूहू स्थित टापस बार में अपने दोस्तों के साथ पार्टी की थी। उन्होंने पहले अपने दोस्तों को मर्सिडीज कार में घर छोड़ा और फिर BMW को “जॉय राइड” के लिए निकाला। हाजी अली के पास मिहिर ने अपने ड्राइवर से सीट बदल ली और खुद गाड़ी चलाने लगे। इस दौरान उन्होंने स्कूटर को टक्कर मार दी, जिससे स्कूटर पर सवार महिला, कावेरी नखवा, की मौत हो गई।

मुंबई हिट एंड रन केस आरोपी का इकबालिया बयान

मुंबई हिट एंड रन केस में मुख्य आरोपी मिहिर शाह ने पुलिस पूछताछ में स्वीकार किया कि वह ही हादसे के समय BMW चला रहे थे। मिहिर ने बताया कि शनिवार रात जूहू स्थित टापस बार में दोस्तों के साथ पार्टी करने के बाद, उन्होंने अपने दोस्तों को मर्सिडीज कार में घर छोड़ा और फिर “जॉय राइड” के लिए अपनी BMW निकाली। हाजी अली के पास उन्होंने अपने ड्राइवर से सीट बदल ली और खुद गाड़ी चलाने लगे। इसी दौरान उन्होंने स्कूटर को टक्कर मारी, जिससे स्कूटर पर सवार महिला कावेरी नखवा की मौत हो गई। मिहिर ने हादसे के बाद डर के कारण मौके से भागने का फैसला किया और अपनी पहचान छिपाने के लिए दाढ़ी मुंडवा ली। उन्होंने गोरेगांव में अपनी गर्लफ्रेंड के घर शरण ली और बाद में विरार के एक रिसॉर्ट में छिप गए, जहां से पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया।

मुंबई हिट एंड रन केस न्यायिक कार्रवाई

मुंबई हिट एंड रन केस में मिहिर शाह के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने मिहिर को गिरफ्तार करने के बाद उन्हें अदालत में पेश किया, जहां उनकी हिरासत की मांग की गई। पुलिस का उद्देश्य है कि मिहिर से और पूछताछ की जाए ताकि हादसे से जुड़े सभी तथ्यों का खुलासा हो सके और यह सुनिश्चित किया जा सके कि कोई भी साक्ष्य छूट न जाए। पुलिस ने मिहिर के ड्राइवर को भी गिरफ्तार किया है, जो हादसे के समय कार में मौजूद था। साथ ही, मिहिर की मां मीना, बहनें पूजा और किंजल, और दोस्त अवदीप से भी पूछताछ की जा रही है ताकि यह पता चल सके कि कहीं उन्हें किसी ने फरार होने में मदद तो नहीं की।

मुंबई हिट एंड रन केस राजनीतिक प्रतिक्रिया

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने इस हिट एंड रन केस पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने स्पष्ट किया कि ऐसे मामलों में किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा, चाहे वह किसी भी राजनीतिक या सामाजिक पृष्ठभूमि से हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि कानून सबके लिए समान है और दोषियों को सख्त सजा दी जाएगी। इस घटना ने न केवल मुंबई बल्कि पूरे राज्य में आक्रोश पैदा कर दिया है, और मुख्यमंत्री ने यह सुनिश्चित किया कि मामले में निष्पक्ष और त्वरित कार्रवाई हो।

मुंबई हिट एंड रन केस जुहू बार पर कार्रवाई

जिस टापस बार में मिहिर शाह और उनके दोस्तों ने हादसे से पहले पार्टी की थी, उस पर भी प्रशासन ने कड़ी कार्रवाई की है। बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) ने बार के अवैध निर्माण को ध्वस्त कर दिया। इसके अलावा, महाराष्ट्र के एक्साइज विभाग ने बार को सील कर दिया, क्योंकि वहां कई नियमों का उल्लंघन पाया गया था। बार में शराब पीने की उम्र सीमा का पालन नहीं किया जा रहा था और यह निर्धारित समय से अधिक समय तक खुला था। इस कार्रवाई का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना था कि भविष्य में इस प्रकार के अवैध गतिविधियों को रोका जा सके।

न्यायिक संहिता और सड़क हादसे

भारत में सड़क हादसों का मुद्दा हमेशा से गंभीर रहा है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार, 2022 में सड़क हादसों में 1.68 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हुई थी। नैशनल क्राइम रेकॉर्ड्स ब्यूरो के अनुसार, 2022 में हिट एंड रन के 47,806 मामलों में 50,815 लोगों की मौत हुई थी। भारतीय न्याय संहिता के तहत सड़क हादसों के मामलों में कड़े प्रावधान हैं, जिनका उद्देश्य हादसों को रोकना और दोषियों को सजा दिलाना है। हालांकि, ऐसे मामलों में रसूखदार और प्रभावशाली लोगों की संलिप्तता के कारण न्याय की प्रक्रिया में बाधाएं आती हैं। यह घटना इस बात की भी याद दिलाती है कि समाज में कानूनी और प्रशासनिक सुधारों की कितनी आवश्यकता है ताकि सड़क हादसों के मामलों में त्वरित और निष्पक्ष न्याय सुनिश्चित किया जा सके।

इस प्रकार, मुंबई हिट एंड रन केस ने न केवल न्यायिक व्यवस्था की महत्वपूर्णता को उजागर किया है, बल्कि समाज में कानून के प्रति संवेदनशीलता और जिम्मेदारी की भावना को भी बढ़ावा देने की जरूरत पर बल दिया है।

Home Page Click Here

Other Links – 

More on Deepawali

Similar articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here